दिव्य ज्योति जागृति संस्थान के सत्संग एवं भजन संकीर्तन का आयोजन

गाजियाबाद। राकेश मार्ग स्थित गुलमोहर एन्क्लेव सोसाइटी के कम्युनिटी हॉल में गुरुवार को दिव्य ज्योति जागृति संस्थान के सत्संग और भजन संकीर्तन का आयोजन किया गया। यह कार्यक्रम सोसायटी के ही रहने वाले रविन्द्र रिहानी, उनकी पत्नी विन्नी रिहानी और उनके परिवार द्वारा आयोजित कराया गया।  सत्संग में साध्वी दिवाकरा भारती एवं साध्वी शालिनी भारती ने कहा कि आध्यात्म के माध्यम से ही भक्ति पथ पर आगे बढ़ा जा सकता है जिससे मनुष्य अपने जीवन में भी परिवर्तन ला सकता है। सत्संग के क्रम को आगे हुए बढ़ाते हुए उन्होंने अपने गुरु आशुतोष महाराज की वाणी के अनुसार बताया कि ईश्वर को भी देखा जा सकता है। इसके लिए आपको केवल एक झटके की आवश्यकता है, और असंभव स्वयं यह कहने पर मजबूर हो जाता है: मैं संभव हूं! यह शक्तिशाली तोड़ पूरे आध्यात्मिक गुरुओं  द्वारा प्रस्तुत किया गया है, जो ईश्वर का अनुभव करने के बारे में मानव जाति के बीच मानसिक बाधाओ को दूर करने के लिए पृथ्वी पर अवतरित  होते हैं! ऐसा हर युग में होता है. और, आज भी यही हो रहा है।
सत्संग में मौजूद सभी लोगों को गुरु और ईश्वर में विश्वास रखने की प्रेरणा भी दी गई। साधकों ने भी गुरु के बताए मार्ग पर चलने का संकल्प लिया। इसके बाद संकीर्तन का आयोजन भी किया गया। प्रेरणादायक प्रवचन, भक्तिपूर्ण भजन और भक्तों की ध्यान साधना से पूरा वातावरण ज्योतिमय हो उठा। पूरे कम्युनिटी हॉल में भक्ति की एक नई ऊर्जा का संचार होने लगा। सत्संग और संकीर्तन के बाद सभी भक्तों को प्रसाद भी वितरित किया गया। भजन संकीर्तन में ललिता चौधरी, सुमन गर्ग, रिद्धि रिहानी, जी.सी.गर्ग, मनवीर चौधरी, सुरेंद्र सिंह राजपूत, ए.के.जैन, गौरव बंसल, मयंक रिहानी समेत सैकड़ो भक्त मौजूद रहे।

Related Posts

Scroll to Top